Hope to be Like My Mother Someday

As a daughter of Ranjeeta Nath Ghai aka atrangizindagieksafar I feel so proud of her.

Her maiden book ‘Mann Ki Aarzoo’ being displayed at New Delhi World Book fair and Chennai Book Fair meant a lot to her. Hope she is successful in her ventures. Love you Maa.

I hope to be like her and one day and publish a book of my own.

 

कैसी होती हैं ये बेटियाँ?

arun-jaitley-an13183

फूलों सी नाजुक होती हैं ये बेटियाँ
पुरे घर को अपनी खुशबू से महका देती हैं ये बेटियाँ
अपने जीने की इच्छाशक्ति को मार कर
दूसरो के लिए जीवन जीती चलती है ये बेटियाँ
अपने सुख दुःख की परवाह किये बिना
दूसरों को खुशी देने की कोशिश करती है ये बेटियाँ।

***

वक्त आने पर बेटा बन जाती है ये बेटियाँ
और पुरे परिवार का बोझ संभालती है ये बेटियाँ
चाहे कितनी भी कठिन परिस्तिथियाँ क्यों न हो
खुद से पहले परिवार का सोचती है ये बेटियाँ
चाहे तुम उसके सपने ही क्यों न कुचाल दो
बिना उफ करे हस्ते खेलते सब कुछ सह जायेंगी ये बेटियाँ

***

अपने गमो को कभी ब्या नहीं करेंगी ये बेटियाँ
जब भी बुलाओगे दोड़ी चली आएगी ये बेटियाँ
पुरे संसार को पीछे छोड़ कर
खुद की ख्वाहिशो को दिन में दबाये जीए जाएंगी ये बेटियाँ
बिना खुद की परवाह करे दूसरो की ख्वाहिशो
को पूरा करने चल देंगी ये बेटियाँ|

***

इनके होने से घर परिवार की रौनक बनी रहती है, ऐसी होती हैं ये बेटियाँ
घर को अपनी खुशबू से महकती हैं ये बेटियाँ
पर जब जाती है तो अपने साथ
घर की खुशियाँ भी ले जाती है ये बेटियाँ
बेटियों के बिना तो यह संसार निरर्थक है,
इसलिए गर्व से लड़कियों का सम्मान करो, क्यूंकि वह नहीं तो कुछ भी नहीं|
न जाने क्यों ऐसे होती है ये बेटियाँ |

ऋषिका सृजन

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google