वो पहली बारिश

 

maxresdefault

सावन के मौसम में
इंतज़ार रहता है,
इंतज़ार रहता है उस पहली बाछड का,
जो प्रकृति को जीवन दान देती है|

जिसके बरसने से,
धरती की प्यास बुझती है,
चिड़ियाँ चहक उठती है,
और चारो और हरियाली ही हरियाली छा जाती है|

प्रकृति तो क्या इन्सान भी,
इन्सान भी इस मौसम का लुफ्त उठाता है,
कभी बारिश में भीगता है,
तो कभी आँगन में बैठ
चाय की चुसकी लेता है|

ये बारिश,
ये बारिश, कम्बक्त, चीज़ ही ऐसी है
जब भी आती है
तो पूरा जहाँ
खुशियों से भर जाता है,
सृष्टि, नाचती है,
और मोर गाता है
सावन के मौसम में
हम सब को,
उस पहली बाछड का,
इंतज़ार रहता है|  

सृजन- ऋषिका

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

Image courtesy google

Advertisements

भाई बहन का प्यार

 

20638425_1953727711583174_8816680667072886897_n

जिसमे प्यार भी हो

तकरार भी और थोड़ी नोक-झोक भी हो

एक ऐसा ही तो है

भाई बहन का प्यार|

***

एक दूसरे के बिना रह नहीं सकते

पर जब साथ हो तो

लड़े बिना रह नहीं सकते

बस ऐसा ही होता है इनका प्यार|

***

चाहे कैसी भी हो शैतानी

कोई सुख-दुःख हो या परेशानी

हमेशा एक साथ रहते है

और यही है उनकी एकता की निशानी|

***

जब साथ हो तो एक दूसरे

की कदर नहीं करते

पर जब दूर हो तो

उसकी एहमियत पता चलती है|

***

यह एक ऐसे रिश्ता है

जो तोड़े नहीं टूटता है

चाहे रहे कितने भी दूर

एक दूसरे के साथ हमेशा रहते है|  

20638886_1953728491583096_8555225312781559154_n

ऋषिका – सृजन 

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google

वाह रे दुनिया

IMG_20170623_141413

कहने को तो दुनिया
बदल रही हैं
हर पल हर वक्त
पर अपनों को ही अपनों से
दूर कर रही है|

पहले का दौर भी
क्या हसीन हुआ करता था
सब एक साथ
हँसते- गूनगुनाते, खाते-पीते थे
साथ बात–चीत करके दुःख-सुख बाँटते थे|

पर आज के
बदलते दौर ने
यह सब खुशियाँ छीन ली है
अब लोग एक साथ रह कर
भी एक साथ नहीं होते|

इस बदलाव का कारण कुछ और नहीं
बल्कि प्रोधोगिकी है
जहाँ इसने जीवन जीने का
ज़रिया आसन बनाया है
वहीं अपनो को अपनो से अलग कर दिखाया है|

आज कल परिवार के साथ कम
और गैजेट के साथ ज़्यादा
समय व्यतीत करते है
ये इन्सान की मुर्खता ही तो है
जो  इसे जीवन जीने का ज़रिया बनाता जा रहा है|

वह दिन दूर नही
जब परिवार और रिश्ते- नातो
का कोइ मोल न रह जायेग
और सब बस प्रोधोगिकरण
के गुलाम बनकर रह जाएगे|

अब भी वक्त है
रोक लो अपने आप को
नही तो तरसते रह जाओगे
परिवार और प्यार की खातिर
वक्त जो बीत जायेग वह फिर कभी लौट के न आएगा|

ऋषिका सृजन 

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google

मेरी नानी, मेरी जान

IMG-20141105-WA0041

दुनिया में माँ से बढ़कर
कोई नहीं होता
पर मेरे लिए मेरी पूरी दुनिया
मेरी नानीमाँ है
जितना प्यार माँ से करती हूँ
उससे कहीं ज्यादा नानीमाँ से करती हूँ|

कहते है माँ का स्थान सबसे ऊँचा होता है
पर मेरे जीवन में वह स्थान
नानीमाँ को प्राप्त है
जीतना प्यार में उनसे करती हूँ
उतना ही वो भी मुझसे करती है|

नहीं तो कौन सी ऐसी नानी होगी
जो बूढ़ापे में अपनी नाती को
अपनी बेटी से बढ़कर प्यार दे
रात दिन उसकी सेवा करे
उसे पाल पोसकर जीवन के लिए तैयार करे |

जब-जब मुझे लगा में जीवन
के संधर्श में हार रही हूँ
तब-तब नानी मेरा सहारा और
मुसीबत से लड़ने की ताकत बनी
और मुसीबत का डट कर सामना किया|

मुझे हिंदी भाषा से डर लगता था
हरदम मै उससे दूर भागती थी
पर आज जो मैने हिंदी में बी.ए किया
और ढ़ेरो कविताएँ लिखी उसका
श्रेय मेरी नानी को जाता है|

मेरा जीवन आपके बिना अधुरा है
नानी, आप हो तो मैै हूँ
भगवान से मिली एक अमूल्य भेंट हो
आपका अस्तित्व सदैव मेरे जीवन का अटूट अंग रहेगा|  

ऋषिका सृजन 

–XxXxX–

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy google