Gori: A Stray Who Is Close To My Heart

dsc03080

By Rishika Ghai 

Met a Stray Dog

My story revolves around the time when I use to stay in Hyderabad Artillery Centre. We had shifted there in April, and that’s when I saw that there was a female Pomeranian dog in our block. Though she was a Pomeranian… she looked like a stray, which was quiet surprising. I and my family observed her for a few days and saw that she was always looking towards the first-floor house which was diagonal to ours. It suddenly struck us that she might have been living in that house and now is alone as the owners had moved out and left without her… She was an ABANDONED GIRL….!!! It broke our hearts and me and me and my father decided to take care of her. Meanwhile, my mother was out of the station. One day she suddenly disappeared we searched for her but couldn’t find her. On coming back from school the next day I saw that she had dug a cave sort of shelter in the mound of the earth …on closer inspection, we found that she had given birth to 3 cute little puppies. We realised that she is not getting adequate food and at the same time she had to feed her puppies. Day by day she was becoming weak waiting for her previous pet parents to come, but nobody came. Then I and my father decided to adopt her and her puppies and brought a bowl full of pedigree and gave it to her. She was so hungry that she had finished that whole bowl and she asked for more food which she promptly got. This was the first time when we had helped an abandoned dog who had become a stray.

Christening Her ‘Gori’

After few days when my mother came back and we had told her everything about that dog she was very happy and we christened her ‘Gori’ because she was white in colour and was very beautiful. After that, we opened our garden gates for her and she was fed thrice a day..i.e twice Khichdi packed with vegetables and once pedigree. On our regular visit to our vet (we have three furry babies of our own i.e. JW, Simba & Sheroo) we told her about ‘Gori’. She was proud of us and extended her full support to us by handing out the multivitamins, calcium and deworming syrups and tablets to us which the medical reps used to give her.  Together we started making Gori fit and healthy.  As time passes she and her puppies became an integral part of our life and were now our extended family. She was a part of each and every celebration and festival. She and her puppies’ had a share of cakes & sweets on our birthdays or anniversary.

Gori’s Litter of Puppies

In her first litter, she had given birth to three puppies (one male died and was survived by two), two were male and one was female. After they were months old she had again given birth to four more puppies. By this time, a dog hater had moved in on our first floor and he used to take shots at them with his air gun. So this time when she gave birth to the second litter we couldn’t find them as she had hidden them… that day on leaving for office my mum asked her to get her puppies home as we hadn’t seen them… but we never expected her to understand and comply. On our way back in the afternoon we found her waiting at the gate and she was jumping up and down as if she was excited or to draw our attention to something. We followed her and she took us to her four puppies (five males of colour are Black, two White, Off-white and Brown), they were adorable…!!! Mum and my brother moved the puppies inside our garden and that’s where she got to stay permanently. Now we had 9 dogs…3 our own and 6 of Gori…!!!

Tragedy Strikes…!!!

It was a stormy night and the next day was a usual busy day. On our return home after the work, we found that Gori was missing. She was not there to welcome us at the gate and only her puppies were roaming in front of our house. We didn’t think much of it till the evening when we started to worry and then we realised that one puppy was Hello missing. Then we started calling her name loudly so many times near our block but there was no response. It was when my dogs went out for a walk and they started pulling us out of the route that we discovered her….lying dead in a pit full of water with her pup alongside an electric cable..!! we immediately raised an alarm and checked the cable, it had current running in it. Our Gori was electrocuted after she and her pup had gone there to drink/sit in water to escape the heat. It was a sad day for us as we had lost our darling and couldn’t say a final goodbye. They both were buried decently in our garden and we hoped soul would rest in peace.

Life After Gori

Later on, as time passed we were only left with four puppies (the eldest female died of distemper and the male died of rabies.)  We managed to get two puppies adopted in decent homes after house checks. Only two puppies were left with us. They both use to stay in our house like before, but after Gori died, mum never encouraged physical contact with them as she said that all humans are not dog-friendly and it was necessary for their survival to be wary of humans.        

The Best Part Of My Life 

I used to study in Kendriya Vidyalaya, hence I could never go to school along with my mother and brother. Every day I use to wait at least 10 -15 minutes for my school bus at the crossing outside or block. I use to stand alone because I was the only one who use to go from that side. This was my daily routine. But the change that came in my life came after Gori’s death, was that her puppy of used to give me company everyday while I used to wait for my school bus. Earlier I used to stand alone at the bus stop and felt lonely and scared. But since the day her pup started giving me company at the crossing I was very happy and felt safe. I felt I could stand there the whole day if that cute little white puppy will give me company. I loved his company. He never came near me and stood a few steps away but keep looking as I used to talk. He used to listen as if he is trying to say ‘don’t be scared feel same as I am there with you to the time you are standing here.’ The moment I use to get into my bus he used to go back my garden. That had become the daily routine until we had left that place on posting.

I never thought that a stray dog would become my best friend and would have a separate place in my heart that I could never forget. This was the best and a 1st time incident of my life with a stray dog. Someone has said correctly that “If you help someone in his or her bad time then he or she will also help you whenever you need” This line also applies to animals. So never stop helping an animal in need. Maybe he or she will become a remembered incident of your life like the one which happened to me.

गोरी-एक आवारा जो मेरे दिल के करीब है

ऋषिका घई

 

 एक आवारा कुत्ते से मिली

मेरी कहानी उस समय के आसपास घूमती है जब मैं हैदराबाद आर्टिलरी सेंटर में रहती थी। हम अप्रैल में वहां स्थानांतरित हुए थे और वँहा मैंने देखा कि हमारे ब्लॉक में एक महिला पोमेरेनियन कुत्ता था। हालांकि वह एक  पोमेरेनियन थी, पर वह एक आवारा कुत्ते की तरह लगती थी, जो की आश्चर्य की बात थी। मेरे और मेरे परिवार वाले उसे कुछ दिनों तक देखते रहे और देखा कि वह हमेशा पहली मंजिल के घर को देखती रहती थी जो हमारे घर के विकर्ण था| तब हमे अचानक लगा की वह उस घर में रहती होगी और अब वह अकेली और बेसहारा है और उस घर के मालिक वहाँ से चले गए थे, और उसे वहाँ अकेला छोड़ गए  थे … वह एक परित्यक्त लड़की थी …. !!! इस बात ने हमारा दिल तोड़ दिया मैंने और मेरे पिता ने उसकी देखभाल करने का निर्णय लिया। इस बीच मेरी माँ को शहर से बाहर जाना पढ़ा| एक दिन वह एकाएक गायब हो गयी, हमने उसे बहुत ढूढा पर वो हमें नहीं मिली| अगले दिन जब मैं स्कूल से आई तो मैंने देखा की उसने ज़मीन में गड्ढा खोद के सुरंग बना रखी है पर जब पास जाकर देखा तो पता चला की उसने तीन पिल्लो को जन्म दिया था|  दिन भर दिन वह कमज़ोर होती जा रही थी और अपने का इंतज़ार किया करती थी| तब मैंने और मेरे पिता ने उसे और उसके पिल्लो को गोद लेने का फैसला लिया अर्थात उसके देखभाल की ज़िम्मेदारी ली और उसे एक कटोरा भरके पेदिग्री(कुत्तो का खाना) दिया| वह बहुत भूकी थी और उसने पूरा कटोरा खा लिया और फिर और माँगा जो की उसको मिला भी| यह पहली बार था जब हमने किसी आवारा कुत्ते की मदद की थी|

उसका नामकरण ‘गोरी’

कुछ ही दिनों के बाद जब मेरी माँ वापस आई तो तुमने उन्हें उस कुत्ते के बारे में सब कुछ बता दिया था और ये सुनकर वह बहुत खुश हुई और उन्होंने उसका हम नाम ‘गोरी’ रख दिया क्योंकि वह सफेद रंग की थी और बहुत सुंदर थी। उसके बाद हमने उसके लिए हमारे बगीचे का द्वार खोल दिया था और उसे दिन में तीन बार खाना खिलते थे|  दो बार  खीचड़ी खूब सारी सब्जियों से बनी और एक बार पेदिग्री। जब हम अपने  कुत्तो के डॉक्टर के यहाँ नियमित रूप से जाते थे (हमारे अपने तीन प्यारे कुत्ते है-जेडब्ल्यू, सिम्बा और शेरू है)| तो हमने उन्हें ‘गोरी’ के बारे में बताया| तो उन्हें हमपर गर्व था और उन्होंने हमारा साथ दिया और मदद के तौर पर मल्टी विटामिन, कैल्शियम और स्वच्छ सिरप और गोलियाँ हमे दी जो उन्हें  चिकित्सा प्रतिनिधि द्वारा मिलती थी। हम सब ने एक साथ मिलकर  गोरी को फिट और स्वस्थ बनाने का कार्य शुरू कर दिया। समय गुज़रता गया और वह और उसके पिल्लों हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन गया थे और अब हमारे विस्तारित परिवार के थे। वह प्रत्येक और हर उत्सव और त्योहार का एक हिस्सा थे। वह और उसके पिल्ले को हमारे जन्मदिन या शादी की सालगिरह पर ‘केक, मिठाई का एक हिस्सा मिलता था।

गोरी और गोरी के  पिल्ले

उसने पहली बार में तीन पिल्लो को जन्म दिया जिसमे से (एक पुरुष पिल्लै की मौत हो गई और वह दो बच्चो के साथ रह गई थी), दो पुरुष पिल्लै थे और एक महिला पिल्ला थी। उसके बाद जब वह पिल्लै थोड़े बढ़े हुए तो उसने फिर से चार और पिल्लों को जन्म दिया था। इस समय तक,  कुत्तो से नफरत करने वाला एक आदमी हमारी पहली मंजिल रहने आया और वह अपने हवाई बंदूक से गोरी और उसके पिल्लो को मरता था। इसलिए जब उसने दूसरी बार पिल्लो को जन्म दिया तो वह पिल्लै हमें नहीं दिखे क्यूंकि उसने उन पिल्लो को छुपा दिया था| उस दिन मेरी माँ ने उसे सहलाते हुए कहा की अपने पिल्लों  को घर लेकर आओ क्यूंकि हमने उन्हें नहीं देखा था| लेकिन हमें यह उम्मीद नहीं थी की उसे यह समझ में आ रहा है। दोपहर की वापसी के समय हमने देखा की वह  हमारा उसे गेट पर इंतजार कर रही थी और वह ख़ुशी के मारे ऊपर और नीचे कूद रही थी मानो अपनी ओर ध्यान आकर्षित कर रही हो। हमने उसका पीछा किया और वह अपने अपने चार पिल्लो के पास ले गईं जो (पांच पुरुष पिल्लै जो काले , दो सफेद, धूमिल सफेद और भूरे) थे, वे आराध्य थे… !!! माँ और मेरे भाई ने हमारे बगीचे के अंदर पिल्लों को रहने की जगह दी जिसके बाद वह उनके रहने का स्थान बन गया। अब हमारे पास 9 कुत्तों थे- तीन हमारे अपने और गोरी के छे

त्रासदी हमला … !!!

यह एक तूफानी रात थी और अगले दिन एक सामान्य व्यस्त दिन था। काम करने के बाद हमारी वापसी पर हमने पाया कि गोरी गायब थी। वो वहाँ गेट पर हमारे स्वागत के लिए नहीं थी और केवल उसके पिल्ले हमारे घर के सामने घूम रहे थे। इस घटना के बारे में हमने ज्यादा ध्यान नहीं दिया, पर शाम को भी जब वो नहीं आई तब हम लोगों ने चिंता करना शुरू कर दिया और उसके बाद हमने महसूस किया कि एक पिल्ला भी लापता था|  तो फिर हमने उसका नाम हमारे ब्लॉक के आस पास जोर जोर  से कई बार पुकारा, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। तब हमारे कुत्तों के सैरका समय हो गया था और मेरे कुत्ते सैर के लिए बाहर निकल गये थे| पर न जाने क्यूँ उन्होंने हमें मार्ग से बाहर खींचना शुरू कर दिया| पीछा करने पर हमने दिल देहला देने वाला मंज़र देखा! तब हमने देखा की गोरी एक पानी से भरे गड्ढे में मृत पड़ी थी और उसके साथ उसका पिल्ला भी था और दूसरे तरफ बिजली की केबल थी… !! हमने तुरंत शोर मचाया  और केबल की जाँच की, तो पता चला की उसमे बिजली का कर्रेंट आ रहा था !! तब हमने अनुमान लगाया के प्यास लगने पर वे दोनों पानी पीने और गर्मी से बचने के लिए गड्ढे में उतरे होंगे और बिजली के कर्रेंट से मर गये होंगे। यह हमारे लिए एक दुखद दिन था क्यूंकि हमने अपनी प्रिय गोरी को खो दिया था और एक अंतिम अलविदा भी नहीं कह पाए। दोनों माँ-बेटे को हमारे बगीचे में शालीनता से दफनाया गया और हम आशा करते है उनकी आत्मा को शांति मिलेगी होगी।

गोरी के बाद का जीवन

बाद में जैसे जैसे समय बिता हम  केवल चार पिल्लों के साथ ही रह गये (ज्येष्ठ महिला पिल्ला की डिस्टेंपर के कारण मृत्यु हो गई और पुरुष पिल्ला की रेबीज़ के कारण निधन हो गया था।) हमने परिवार  की अच्छी जाँच के बाद दो पिल्लों को तो अडॉप्ट करवा दिया। फिर केवल दो पिल्लै ही हमारे पास रह गये थे। वे दोनों पहले की तरह हमारे घर में रहने लगे, लेकिन गोरी की मौत के बाद, माँ के कभी उनके साथ शारीरिक संपर्क नहीं रखा और कहा की सभी मनुष्यों कुत्ते के अनुकूल नहीं हैं और यह उनके अस्तित्व के लिए जरूरी था|

मेरी ज़िन्दगी का सबसे अच्छा दोर

मैं केंद्रीय विद्यालया मैं पढती थी इसलिए मैं कभी अपनी माँ और भाई के साथ स्कूल नहीं जाती थी जो आर्मी पब्लिक स्कूल में जाते थे| हर रोज़ मुझे दस से पन्द्र मिनट अपनी स्कूल बस का इंतज़ार करना पड़ता था, जो हमारे घर से बहार के चौराहे पर आती थी| मैं वहाँ अकेले खड़ी होती थी क्यूंकि मैं अकेली ही थी वो वहाँ से बस पकड़ती थी| यह मेरे रोज़ का नियम था| पर मेरी  ज़िन्दगी मैं जो बदलाव आया वह गोरी की मौत के बाद आया… और वह यह था की गोरी का एक सफेद रंग पिल्ला था जो रोज़ मेरे साथ वहाँ चोराहे पर खडा रहता था और मुझे कंपनी देता था| पहले मैं अकेली खड़ी रहती थी और मुझे अकेलापन और डर लगता था| पर जबसे उस पिल्लै ने मेरे साथ खड़ा होना शुरू किया था तब से मैं बहुत ख़ुश थी और सुरक्षित महसूस करती थी|  मेरे मैं जोश आ गया था और मैं चाहती तो मैं वहाँ पूरा दिन खड़ी हो सकती थी अगर वो प्यारा पिल्ला ऐसे ही मेरे साथ खड़ा रहता| मुझे उसके साथ समय बिताना बहुत अच्छा लगता था|  वो मेरे पास कभी नहीं आता था| हमेश वह मेरे से दो-तीन कदम की दूरी पर रहता था और मुझे देखता रहता था और जैसे जैसे मैं चलती रहती थी  वो मेरी बाते सुनता था और मेरे साथ चलता था| मानो  वो मुझे कह रहा हो की डरो मत मैं तुम्हारे साथ हूँ जब तक तुम यहाँ खड़ी हो मैं भी यही खड़ा रहूँगा| जैसे ही मैं अपनी बस मैं चढ़ जाती थी वो हमारे बगीचे मैं चला जाता था| जब तक मैं उस शहर से चली नहीं गई, यह उसका रोज़ का काम बन गया था|

मैंने कभी नहीं सोचा था की एक आवारा कुत्ता मेरा सबसे अच्छ मित्र बनेगा और उसके लिए मेरे दिल मैं एक अलग जगह होगी| एक आवारा कुत्ते के साथ यह मेरी ज़िन्दगी की सबसे पहली और सबसे अच्छी घटना थी| किसी ने सही कहा है की “अगर आज तुम किसी ज़रूरतमंद की मदद करते हो तो कल जब तुम्हें मदद ही ज़रूरत होगी तो कोई न कोई तुम्हारी भी मदद करेगा” और यह बात पशु पर भी लागु होती है| इसलिए कभी भी किसी पशु को प्यार करने से मत कतराओ| हो सकता है की कभी न कभी कोई आपकी ज़िन्दगी का एक बहुत ही ज़रूरी और खास हिस्सा बन जाये जैसे की मेरी ज़िन्दगी मैं हुआ है|

©All Rights Reserved
© Rishika Ghai

image courtesy Rishika Ghai

Advertisements

3 thoughts on “Gori: A Stray Who Is Close To My Heart

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s